Romantic Shayari, Shayari image कब आपकी आँखों में हमें मिलेगी पनाह, 

Rate this post

कब आपकी आँखों में हमें मिलेगी पनाह,
चाहे इसे समझो दिल्लगी या समझो गुनाह,
अब भले ही हमें कोई दीवाना करार दे,
हम तो हो गए हैं आपके प्यार में फ़ना।romantic shayari

shayari image
shayari image

सामने ना हो तो तरसती है आँखे,
याद मे तेरी बरसती है आँखे?.
मेरे लिए नही इनके लिए ही आ जाओ,
आप का बेपनाह इंतेज़ार करती हैं ये आँखे!!romantic shayari

छोंड़ गए हमको वो अकेले ही राहों में,
चल दिए रहने वो गैर की पनाहों में,
शायद मेरी चाहत उन्हें रास नहीं आयी,
तभी तो सिमट गए वो औरों की बाँहों में।….romantic shayari

Romantic Shayari, Shayari image कब आपकी आँखों में हमें मिलेगी पनाह,

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here