Romantic Love Shayari, वो मेरी राहों में गुन-गुना रही थी,

Rate this post

कल इक झलक देखी जिंदगी की,
वो मेरी राहों में गुन-गुना रही थी,
फिर ढूंढा उसे इधर से उधर,
वो आँख मिचोली कर मुस्करा रही थी,
एक अरसे बाद आया मुझे करार,
वो सहला कर मुझे सुला रही थी,
हम दोनों क्यूँ खफा हैं इक-दूजे से,
मैं उसे और वो मुझे समझा रही थी,
मैंने पूछ लिया, क्यूँ दर्द दिया जालिम तूने?
वो बोली, मैं जिंदगी हूं पगले,
तुझे जीना ही तो सिखा रही थी…

Hindi Shayari, Dard Bhari Shayari in Hindi Font


……

मुहब्बत रेत जैसी है……

किसी भी बंद मुट्ठी में
मगर ये भी हक़ीक़त है

अचानक बेख़याली में
बिना सोचे बिना समझे

यूँ ही बस बे इरादा ही
ये मुट्ठी खुल भी जाती है.

 


Mat tod wo talluq jo teri zaat se hai .

 

Mat tod wo talluq jo teri zaat se hai …..
Ye to bata tu khafa hai meri kis baat se …..
tu na uljha kar mujh se is tarha ….
ke tu achhi tarha waaqif hai mere jazbaat se …
main kaise jee loo tum se rooth kar,….
meri har saans wabasta hai teri yaad se ….!!’

 love messages in hindi


 

ढूंढना ही है तो परवाह करने
वालों को ढूंढ़िये …
इस्तेमाल करने वाले तो ख़ुद ही
आपको ढूंढ लेंगे….

 


 

मेरे हर तरफ़ जिस क़दर तू ही तू है…
ये ज़िंदगी ज़िंदगी है या ज़िंदगी भी तू है…
जिस्म जब भी रुहानियत की तासीर लेता है…
जो मेरी गोद में गिरता है वो शहाब भी तू है…

Love Hindi Shayari


 

कोरे कागज पर हमने अपनी कहानी लिख दी,
मिला जाे दुनिया से हमें, उससे हमने शायरी लिख दी,
फिर क्यों अाखों के आसुओं में तेरी कमी है दिखती,
अाैर मेरे जिंदगी की किताब पर तेरे एहसास की निशानी दिखती

 


 

किस दर्द को लिखते हो इतना डूब कर,
एक नया दर्द दे दिया है उसने ये पूछकर

 


 

देखा है जिदंगी में हमने ये आज़मा के
देते है यार धोख़ा दिल के करीब ला के


 

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here